जिद्दी स्ट्रेस मार्क्स से ऐसे पाएं छुटकारा
photo source : TheHealthSite.com

जब कोई महिला प्रेग्नेंट होती है या उसका वजन बढ़ता है तो इससे सिर्फ त्वचा की ऊपरी परत नहीं बल्कि निचली परत में भी खिंचाव होता है। जब स्किन स्ट्रेच होती है तो त्वचा को लचीला रखने वाला कोलेजन कमज़ोर हो जाता है, जिससे उसकी जनरल प्रोडक्शन साइकिल डिस्टर्ब हो जाता है और उसको नुकसान पहुंचता है। इस कारण आपकी त्वचा के ठीक नीचे की परत में निशान बन जाते हैं, जो शुरू में गुलाबी या लाल से लगते हैं और कुछ समय बाद ये सिल्वर या सफ़ेद लाइन में तब्दील हो जाते हैं। यानी स्किन अगर उसकी फ्लेक्सिबिलिटी से ज़्यादा खिंच जाती है तो ये निशान हो जाते हैं। इन्हे स्ट्रेच मार्क्स कहते है।

 पोस्ट प्रेग्नेंसी के स्ट्रेस मार्क्स

मां बनना हर महिला के लिए सुखदाई होता है लेकिन कहते हैं ना कि कुछ पाने के लिए कुछ खोना पड़ता है। बच्चे के जन्म के बाद मां के शरीर पर भूरे या हल्के गुलाबी रंग के बहुत सारे स्ट्रेच मार्क्स बन जाते हैं। यह ज्यादातर पेट के निचले हिस्से, पीठ, पैरों और कूल्हों के आस – पास पड़ते हैं। यह गर्भाशय में बच्चे के बढ़ने के कारण होता है यानी गर्भावस्था के दौरान वजन बढ़ने से त्वचा में आने वाली खिंचाव के कारण होता है लेकिन डिलीवरी के बाद भी ये निशान रह जाते हैं।

स्ट्रेच मार्क्स कुछ हद तक वंशाणु पर भी निर्भर होते हैं यानी यदि आपकी मां को स्ट्रेस मार्क्स हैं तो इसकी अधिक संभावना है कि आपको भी ये निशान हों।

लाल और सफेद स्ट्रेस मार्क में क्या है फर्क

अगर आपकी त्वचा पर लाल रंग के स्ट्रेच मार्क हैं तो ये निशान नए – नए आपके शरीर पर पड़े हैं।  इस तरह के निशान ब्‍लड वेसल्स को दिखाते हैं, इसलिए इनका रंग लाल होता है। इस स्तर पर, विभिन्न टॉपिकल क्रीम के माध्यम से निशान तेजी से ठीक हो सकते हैं।

सफेद स्ट्रेच मार्क्स इन स्‍ट्रेच मार्क्‍स को शरीर में बने हुए कभी लम्‍बा समय हो जाता है तो ये सफेद या सिल्‍वर रंग में बदल जाते है, किसी भी सामान्‍य टॉपिकल क्रीम से इनका इलाज नहीं किया जा सकता है। सफेद निशान त्वचा पर सबसे जिद्दी दाग होते हैं। सफेद स्‍ट्रेच मार्क्‍स का इलाज आसान नहीं है।

स्ट्रेस मार्क्स को दूर करने के प्राकृतिक उपाय

यूं तो बाजार में स्ट्रेस मार्क्स को दूर करने की कई तरह की क्रीम उपलब्ध है लेकिन इनका असर बहुत कम होता है, इसलिए यहां हम आपको बता रहे हैं स्ट्रेस मार्क्स दूर करने के कुछ प्राकृतिक उपाय।

जिलेटिन का इस्तेमाल

स्‍ट्रेच मार्क्‍स को रोकने का जिलेटिन एक दमदार तरीका है। त्‍वचा की फ्लैक्सिबिलिटी में सुधार लाने के लिए कोलेजन का गठन आवश्यक होता है। इसलिए त्‍वचा के कोलेजन के गठन को बढ़ाने के लिए आपको अपने आहार में जिलेटिन वाले आहार को शामिल करना चाहिए। इसके लिए आप अपने सूप, सॉस आदि में जिलेटिन पाउडर का उपयोग कर सकते हैं। जिलेटिन न केवल आपकी त्‍वचा की फ्लैक्सिबिलिटी में मददगार होता है बल्कि जोड़ों के दर्द, पाचन को दुरुस्‍त, बेहतर नींद और घाव को भरने में भी मदद करता है।

खूब पानी पिएं

स्ट्रेच मार्क्स से बचने के लिए आपको अपने शरीर को हाइड्रेड़ रखना चाहिए। गर्भावस्था में शरीर में खून की मात्रा बढ़ जाती है और साथ ही बच्चे के रहने के लिए ज्यादा पानी की जरूरत होती है। इसलिए गर्भावस्था में कम से कम आठ से दस गिलास पानी रोजाना पीना चाहिए। पानी त्वचा में नमी बनाए रखता है पानी में रोमछिद्रों को पोषण देने के कुदरती गुण होते हैं। इससे स्ट्रेस मार्क नहीं पड़ते हैं।

तेल से करें मसाज

स्ट्रेज मार्क्स पर रोजाना तेल की मसाज करें। बेहतर परिणाम के लिए आप नारियल तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके अलावा आरंड़ी, जैतून, बादाम तेल से भी मसाज कर सकते हैं।

अंडे का सफेद हिस्सा लगाएं

अंडे में प्रोटीन प्रचूर मात्रा में पाया जाता है। इसे स्ट्रेच मार्क पर लगाने से निशान कम होने लगते हैं या खत्म ही हो जाते हैं। इसके लिए सिर्फ अंडे के सफेद भाग को रोजाना स्ट्रेस मार्क पर लगाएं और सूख जाने के बाद धो दें। फिर मॉस्श्चराइज लगा दें।

विटामिन सी और विटामिन के

शरीर कोलेजन और कार्टिलेज को बनाने के विटामिन का उपयोग करता है। इसलिए अपने आहार में विटामिन सी को शामिल करें। विटामिन सी को पाने के लिए आप संतरे के अलावा लाल और हरी शिमला मिर्च, अमरूद, केला,शलजम और ब्रोकली भरपूर मात्रा में खाएं। इसके अलावा विटामिन के शरीर के दाग – धब्बों को दूर करने में मददगार होता है। इसके लिए आप हरी सब्जियां,खीरे, बंदगोभी, पालक और प्याज खा सकते हैं। हरी सलाद का सेवन रोज करने से स्ट्रेस मार्क्स से छुटकारा मिल सकता है।

कोकोआ बटर से करें मसाज

शरीर के खिंचाव निशान को दूर करने के लिए आप कोकोआ बटर और कॉफी का इस्तेमाल कर सकते हैं। स्ट्रेच मार्क वाले भागों पर दिन में दो बार कोकोआ बटर की मसाज करें। एक महीने में ही आपको फर्क नजर आ जाएगा। कोकोआ बटर शरीर मे नमी बनाएं रखने का काम करता है और शरीर के दाग को दूर करने में मददगार होता है।

कॉफी निखारें रंगत

कॉफी में ऐसे गुण पाए जाते हैं जो शरीर के दाग – धब्बों को दूर करते हैं और त्वचा की रंगत को निखारते हैं। स्ट्रेच मार्क्स पर कॉफी का इस्तेमाल करने के लिए क़ॉफी के कुछ दानों को लें और इन्हें पर्याप्त मात्रा में गर्म पानी के साथ पीसकर एक गाढ़ा और महीन पेस्ट तैयार कर लें। इसमें एलोवेरा जैल को मिक्स करें। तीन से पांच मिनट तक इस मिश्रण का स्ट्रेच मार्क्स पर मसाज करें। इसे कम से कम 15 से 20 मिनट तक रखकर तौलिए से पौंछ दें। इसके बाद इसे धो दें, धोने के बाद मॉइस्चराइजर के रुप में जैतून के तेल का प्रयोग करें।

आलू काटकर लगाएं

स्ट्रेच मार्क्स को दूर करने का सस्ता और कारगार तरीका है आलू।  यह हर रसोई की शान होता है। आलू को काटकर स्ट्रेच मार्क्स पर रगड़ें। सूख जाने पर धो लें।

 

 

Comments

comments